म दुर भएर के भो
अभिसाप छाएर के भो

यति रोए जिन्दगीमा
कि फेरी रोएर के भो

म दुर भएर के भो
अभिसाप छाएर के भो

यति रोए जिन्दगीमा
कि फेरी रोएर के भो

म दुर भएर के भो

जति भावना छन् सबै
रित्ता छन् यति रित्ता

जति भावना छन् सबै
रित्ता छन् यति रित्ता

ति जागरणका जम्मै
उत्साह छन् रित्ता रित्ता

तिम्रो साथ छुटेर के भो
नयाँ हात पाएर के भो

यति खोज्छु सम्झनालाई
कि बिर्सिसकेर के भो

म दुर भएर के भो

आफ्नै यि धड्कनहरु
भिन्न छन् यति भिन्न

आफ्नै यि धड्कनहरु
भिन्न छन् यति भिन्न

बदलेछु म स्वयं नै
लाचार छु स्वयं चिन्न

म उदास भएर के भो
म खुशी भएर के भो

यति बिरान जिन्दगी छ
कि बिरानी आए के भो

म दुर भएर के भो

अम्बर गुरुङ

Video @Youtube, Amber Gurung – Topic